Fandom

LyricWiki

Niyaz:Dilruba Lyrics

1,908,967pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share
StarIconGreen
LangIcon
Dilruba

This song is by Niyaz and appears on the album Niyaz (2005).

तक़दीर से क्या गिला, खुदा की मर्ज़ी

( दुनिया भी अजब सराय फानी देखी
हर चीज यहाँ की आनी जानी देखी ) - २

( जो आके ना जाये वो बुढ़ापा देखा
जो जाके ना आये वो जवानी देखी ) - २
जो जाके ना आये वो जवानी देखी

लेले लेले ले

( हर शै में जमाल-ऐ-दिलरुबा को देखा
हर चीज में शान-ऐ-किबरियाको देखा ) - २
मखलूक में खालिक का नजर आया जिसको
उस देखने वाले ने खुदा को देखा - २

( दुनिया भी अब सराय फानी देखी
हर चीज यहाँ की आनी जानी देखी ) - २
( जो आके ना जाये वो बुढ़ापा देखा
जो जाके ना आये वो जवानी देखी ) - २
जो जाके ना आये वो जवानी देखी

लेले लेले ले
( हर शै में जमाल-ऐ-दिलरुबा को देखा
हर चीज में शान-ऐ-किबरिया को देखा ) - २

जिसको यह लाइन समझ नहीं आई
उस देखने वाले ने खुदा को देखा - २

लेले लेले ले

तकदीर से क्या गिला खुदा की मर्ज़ी
जो कुछ भी हुआ, हुआ खुदा की मर्ज़ी
हमजद हर बात में कहांतक क्यों ?
हर क्यों की इन्तहां, खुदा की मर्ज़ी